मुख्य समाचारः

सम्पर्कःeduployment@gmail.com

28 जून 2011

छत्तीसगढ़: तीसरी बार पीएमटी 10 जुलाई को

छत्तीसगढ़ व्यावसायिक परीक्षा मंडल द्वारा इस साल तीसरी बार आयोजित की जा रही पीएमटी 10 जुलाई को हो सकती है। एक-दो दिनों में इसकी अधिकृत घोषणा कर दी जाएगी। रविवार होने की वजह से मंडल के अधिकारियों को फिलहाल यही तिथि उपयुक्त लग रही है।

रविवार को स्कूल-कॉलेजों की छुट्टी होने की वजह से मंडल के अधिकारी इसी दिन परीक्षा आयोजित करना चाहते हैं।

पीएमटी का आयोजन दो पालियों में होगा। स्कूलों में नया सत्र शुरू होने की वजह से बाकी दिनों में परीक्षा आयोजित करना मुश्किल काम होगा। मंडल के पास जुलाई में 3, 10 और 17 जुलाई की तिथि परीक्षा के लिए उपलब्ध है।


3 तारीख तक परीक्षा का कामकाज पूरा नहीं हो सकेगा और 17 जुलाई को परीक्षा आयोजित करने पर काउंसिलिंग का समय पिछड़ सकता है। ऐसे में 10 जुलाई को परीक्षा आयोजित की जा सकती है। व्यापमं के अध्यक्ष सुब्रमण्यम के अनुसार इसकी घोषणा जल्द से जल्द कर दी जाएगी।
प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नंद कुमार पटेल और नेता प्रतिपक्ष रविंद्र चौबे ने पीएमटी कांड में भाजपा नेताओं की चुप्पी पर कहा कि सभी घोटालेबाजों के आगे नतमस्तक हो गए हैं। पिछले सात वर्षो से उम्मीदवारों को उनके हक से वंचित रखा जा रहा है। 

कमेटी के प्रवक्ता जसवंत क्लाडियस ने बताया कि पर्चा लीक कांड की वजह से पूरे देश में छत्तीसगढ़ की बदनामी हुई है। विधायक अमितेष शुक्ल ने पीएमटी पर्चा लीक कांड की जांच सीबीआई से कराने की मांग की है। श्री शुक्ल ने एक बयान जारी कर कहा कि पर्चा लीक होने से एक बात साफ हो गई है कि सरकार व्यापमं की मदद से छात्रों से धन उगाही कर रही है।

पूरे मामले में सरकार की भूमिका की जांच के लिए सीबीआई से जांच करानी चाहिए। व्यापमं में ऐसा पहली बार नहीं हुआ है। इससे पहले भी कई परीक्षाओं में गड़बड़ी हो चुकी है। छत्तीसगढ़ नागरिक संघर्ष समिति के जिलाध्यक्ष विश्वजीत मित्रा ने आरोप लगाया है कि पर्चा कांड की जांच को भाजपा के कुछ बड़े नेता प्रभावित कर रहे हैं(दैनिक भास्कर,रायपुर,28.6.11)।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी के बगैर भी इस ब्लॉग पर सृजन जारी रहेगा। फिर भी,सुझाव और आलोचनाएं आमंत्रित हैं।