मुख्य समाचारः

सम्पर्कःeduployment@gmail.com

21 जून 2011

लखनऊःगलती विश्वविद्यालय की, भुगत रहे छात्र

लखनऊ विश्र्वविद्यालय के विभागों में परस्पर सामंजस्य की कमी का खामियाजा विद्यार्थियों को भुगतना पड़ रहा है। प्रवेश समिति ने स्नातक आवेदन की अंतिम तिथि 20 जून घोषित कर दी। इसकी जानकारी होने के बावजूद परीक्षा विभाग इंटरमीडिएट स्तर के ओरिएंटल पाठ्यक्रमों के परिणाम बीस जून से पहले घोषित नहीं कर सका। अधिकारियों ने ऑनलाइन प्रणाली का साफ्टवेयर डिजाइन करवाते समय पाठ्यक्रम के स्वरूप को भी ध्यान में नहीं रखा। इसके चलते किसी तरह अंक पता कर ऑनलाइन फार्म भरने गए विद्यार्थियों को भी निराश होना पड़ा। लविवि प्रवक्ता प्रो.एसके द्विवेदी का कहना है कि विद्यार्थियों को पहले शिकायत करनी चाहिए थी। विभागाध्यक्ष और संबंधित अधिकारियों से अब बात की जाएगी। लखनऊ विश्र्वविद्यालय में अरबी, पर्शियन के ओरिएंटल कोर्स हैं। इंटरमीडिएट स्तर के इन पाठ्यक्रमों के विद्यार्थी लविवि में बीए के लिए आवेदन कर सकते हैं। ओरिएंटल कोर्स के तहत फाजिल-ए-अदब, फाजिल-ए-तफसीर और दाबिर-ए-कामिल पाठ्यक्रम चलते हैं। इनके विद्यार्थी इस वर्ष लविवि से आवेदन नहीं कर सकेंगे। इन विद्यार्थियों की परीक्षा 25 अप्रैल को ही समाप्त हो गई थी लेकिन अभी तक परिणाम नहीं घोषित हुआ। लविवि ने स्नातक में आवेदन की अंतिम तिथि घोषित की तो परेशान छात्रों ने विभागाध्यक्ष डॉ.तकी अली आबिदी से संपर्क किया। विद्यार्थियों ने बताया कि हर बार विभागाध्यक्ष की तरफ से आश्र्वासन ही दिया गया। सोमवार को विद्यार्थियों ने परीक्षा विभाग पहुंच कर अपनी समस्या बताई तो अधिकारियों ने तत्काल परिणाम घोषित करने में असमर्थता जताते हुए विषयवार अंक कागज पर लिखकर दे दिए। लेकिन फिर भी समस्या का समाधान नहीं हुआ। वे लविवि की वेबसाइट से चालान डाउनलोड कर बैंक में फीस जमा की। आवेदन करने गए तो ऑनलाइन आवेदन स्वीकार ही नहीं हुआ क्योंकि साफ्टवेयर ऐसा कोई फॉर्म स्वीकार नहीं करता जिसमें दसवीं और इंटरमीडिएट में एक साल का अंतर न हो(दैनिक जागरण,पटना,21.6.11)।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी के बगैर भी इस ब्लॉग पर सृजन जारी रहेगा। फिर भी,सुझाव और आलोचनाएं आमंत्रित हैं।