मुख्य समाचारः

सम्पर्कःeduployment@gmail.com

28 जुलाई 2011

अहमदाबादःफर्जी मॉर्कशीट बनाने वाले गिरोह का पर्दाफाश

अहमदाबाद पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार कर फर्जी मॉर्कशीट का गोरखधंधा करने वाले एक गिरोह का पर्दाफाश किया है। आरोपी 15 हजार से डेढ़ लाख रूपए में डिप्लोमा से डिग्री के पाठ्यक्रमों की मॉर्कशीट उपलब्ध करवाते थे। अभी तक इस गिरोह द्वारा तीन हजार से अधिक लोगों को जाली मॉर्कशीट मुहैया करवाने की आशंका है। इनमें से कई विदेश जा चुके हैं तथा अन्य कई नौकरियां कर रहे हैं।


अहमदाबाद पुलिस के हत्थे चढ़ा बॉबी सिंह महेदिरताल नामक आरोपी को आठ माह पहले जयपुर पुलिस ने ऐसे ही मामले में दबोचा था। अन्य आरोपियों की पहचान उत्कर्ष पटेल, प्रवीण देसाई एवं जिज्ञेश बारोट (सभी अहमदाबाद निवासी) के रूप में हुई है। ये नेशनल एजुकेशन मैनेजमेंट एंड टैक्नोलॉजी स्टडीज (एनईएमटीएस) के बैनर तले गोरखधंधा कर रहे थे। एनईएमटीएस किसी विश्वविद्यालय से पंजीकृत नहीं है बल्कि जनता सेवक न्यास के मातहत कार्यरत थी। बॉबी सिंह सिह एनईएमटीएस का मुख्य संचालक है।

प्लेसमेंट साइट स्रोत गोरखधंधे की सूचना मिलने पर पुलिस ने छद्म ग्राहक आरोपियों के पास भेजा था। छद्म ग्राहक को ग्रेजुएट इन बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन पाठ्यक्रम की साल 2005, 06 एवं 07 की फर्जी मॉर्कशीट मुहैया करवाने के लिए आरोपियों ने 22500 रूपए में सौदा किया था। पुलिस के अनुसार आरोपी नौकरी डॉट कॉम एवं मोंस्टर सरीखी घ्लेसमेंट वेबसाइट से डेटा लेकर विद्यार्थियों से संपर्क करते थे।

दफ्तर में 50 लड़कियां
संभावित ग्राहकों को प्रभावित करने के लिए आरोपियों ने 50 से अधिक लड़कियों को कार्यालय में नियुक्त कर रखा था। वेबसाइट से डेटा लेकर संपर्क करने तक का काम इन्हीं लड़कियों से करवाया जाता था(दैनिक भास्कर,अहमदाबाद,25.7.11)।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी के बगैर भी इस ब्लॉग पर सृजन जारी रहेगा। फिर भी,सुझाव और आलोचनाएं आमंत्रित हैं।