मुख्य समाचारः

सम्पर्कःeduployment@gmail.com

18 जुलाई 2011

जीवाजी विश्र्वविद्यालय में प्रवेश पर पुलिस जांच भी

मध्य प्रदेश के जीवाजी विश्र्वविद्यालय में प्रवेश लेने वाले छात्रों को पुलिस जांच से भी गुजरना पड़ेगा। जांच में यदि छात्र किसी आपराधिक मामले में संलिप्त पाया गया तो उसके प्रवेश को निरस्त कर दिया जाएगा। विश्र्वविद्यालय ने यह कदम बीते वर्षो में दूसरे राज्यों से आए छात्रों के अपराध में संलिप्त होने के चलते उठाया है। विश्र्वविद्यालय प्रशासन के अनुसार नए सत्र में प्रवेश के दौरान छात्र को शपथपत्र जमा करना होगा। इस शपथपत्र की जांच पुलिस द्वारा कराई जाएगी। जांच में यदि छात्र का कोई आपराधिक रिकार्ड पाया गया या फिर गलत पते पर प्रवेश लेने की बात सामने आई तो उसके प्रवेश को निरस्त कर दिया जाएगा। दरअसल जीवाजी विव में केरल, उड़ीसा, राजस्थान, बिहार, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, असम, मणिपुर आदि राज्यों के छात्र प्रवेश लेते हैं। ज्यादातर छात्र हॉस्टल में रहते हैं। पिछले वर्षो में कुछ छात्र आपराधिक गतिविधियों से जुड़े मिले हैं। इसके अलावा कुछ बड़ी वारदातों को अंजाम देकर गायब हो गए। जांच विशेष रूप से दूसरे राज्यों से आए छात्रों की कराई जाएगी। हालांकि विश्र्वविद्यालय प्रशासन का कहना है कि सभी छात्रों को पुलिस जांच से गुजरना होगा। उल्लेखनीय है कि विश्वविद्यालय के विभिन्न पाठ्यक्रमों में करीब चार हजार सीटें हैं(दैनिक जागरण,ग्वालियर,18.7.11)।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी के बगैर भी इस ब्लॉग पर सृजन जारी रहेगा। फिर भी,सुझाव और आलोचनाएं आमंत्रित हैं।