मुख्य समाचारः

सम्पर्कःeduployment@gmail.com

05 जुलाई 2011

हिमाचलःहमीरपुर में पांच आईटीआई संस्थान और सिर्फ एक प्रिंसिपल

हमीरपुर जिले के सिर्फ एक आईटीआई को छोड़कर बाकी पांच संस्थान बिना मुखिया के चल रहे हैं। प्रिंसिपल की स्थायी नियुक्ति न होने से इन संस्थानों का सारा कामकाज एडीशनल चार्ज की टेंपरेरी व्यवस्था के सहारे चल रहा है। जिले के 6 सरकारी आईटीआई का चार्ज पिछले कुछ समय से 50 किमी. दूर स्थित नैहनपुखर (ऊना) आईटीआई के प्रिंसिपल देख रहे थे। लेकिन कुछ दिन पहले ही रेल संस्थान को नए प्रिंसिपल मिले हैं।

मगर अभी भी बाकी पांच संस्थानों का चार्ज नैहनपुखर के प्रिंसिपल के पास ही है। सभी तरह की डीडीओ पावर भी उनके पास हैं। पिछले कई वर्षो से संस्थानों में न स्टाफ बढ़ रहा है और न ही ट्रेड।

व्यवस्था करना मुश्किल


लगभग सभी संस्थानों में कहीं न कहीं स्टाफ की समस्या चल रही है। भोरंज स्थित आईटीआई में प्रिंसिपल के अलावा न वहां ग्रुप इंस्ट्रक्टर है और न ही पूरा क्लेरिकल स्टाफ। 11 वर्ष पहले खुले इस संस्थान में सिर्फ प्लंबर और कटिंग दो रेगुलर ट्रेड चल रहे हैं। 

नए ट्रेड न होने से छात्र भी इस ओर आकर्षित नहीं होते हैं। रेल में वेल्डिंग और फिटिंग के बेसिक इंस्ट्रक्टरों के दो पद खाली हैं। लंबलू आईटीआई में क्लर्क का एक पद, वर्कशॉप अटेंडेंट का एक पद, सुजानपुर और बणी में भी यही सब एक-एक पद वर्षो से खाली पड़े हैं। स्टाफ की कमी के कारण संस्थान की व्यवस्था चलाना मुश्किल हो रहा है(दैनिक भास्कर,हमीरपुर,5.7.11)।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी के बगैर भी इस ब्लॉग पर सृजन जारी रहेगा। फिर भी,सुझाव और आलोचनाएं आमंत्रित हैं।