मुख्य समाचारः

सम्पर्कःeduployment@gmail.com

05 जुलाई 2011

अस्पताल प्रशासन में करिअर

स्वास्थ्य संबंधी सेवाओं के बढ़ते महत्व को देखते हुए हेल्थ एडमिनिस्ट्रेशन और हेल्थ केयर मैनेजमेंट की डिमांड भी बढ़ती जा रही है। यही वजह है कि इस क्षेत्र में काम करने वालों के लिए नौकरी के अवसर भी बढ़ रहे हैं। हर व्यक्ति डॉक्टर या नर्स तो नहीं बन सकता, इस क्षेत्र में और भी कई पद हैं, जो हॉस्पिटल के लिए जरूरी होते हैं।

हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन एंड हेल्थकेयर मैनेजमेंट का स्पेशल कोर्स इस लिहाज से बेहद खास है कि यह हेल्थ सेक्टर में न केवल बेजोड़ करियर है बल्कि नाम के साथ दाम भी दिलाता है। अमेरिका में हुआ हालिया सव्रे बताता है कि हेल्थ मैनेजमेंट टॉप के 10 प्रोफेशन में शामिल है। आज के दौर में सरकारी अस्पताल हों या प्राइवेट, सब फस्र्ट क्लास सर्विस देने के लिए कंपिटिशन कर रहे हैं। यही वजह रही कि शिक्षण संस्थानों ने हॉस्पिटल मैनेजमेंट एंड एडमिनिस्ट्रेशन में नया कोर्स निकाला है, जो मेडिकल और नॉन-मेडिकल लोगों के लिए खासतौर पर डिजाइन किया गया है। यह कोर्स हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन की टेक्निक सिखाता है ताकि वे हॉस्पिटल के एडमिनिस्ट्रेटिव अफेयर्स को ठीक से समझ सकें। इसके अलावा, यह कोर्स रोगियों को हैंडिल करना भी सिखाता है। हेल्थ सर्विसेज की प्लानिंग, कंट्रोलिंग, डायरेक्टिंग और मैनेजिंग की शिक्षा भी देता है।

कोर्स

अधिकतर कॉलेज और यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन और हेल्थकेयर मैनेजमेंट में कोर्स ऑफर करते हैं। कुछ तो हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन में एमबीए कोर्स भी ऑफर करते हैं तो कुछ केवल हॉस्पिटल मैनेजमेंट में सर्टिफिकेट और डिप्लोमा कोर्स। शॉर्ट-टर्म और डिस्टेंस लर्निग प्रोग्राम भी उपलब्ध हैं।

कैसे लें दाखिला


इस कोर्स में दाखिले के लिए ग्रेजुएशन में कम से कम 50 प्रतिशत अंकों का होना जरूरी है। एप्टिटय़ूड टेस्ट के बाद पर्सनल इंटरव्यू क्लीयर करने के बाद ही इस कोर्स में दाखिला मिलता है।
कार्य

हॉस्पिटल मैनेजर का काम हॉस्पिटल के अलावा आउट-पेशेंट क्लीनिक और ट्रीटमेंट क्लीनिक में भी होता है। इनका मुख्य काम रोगियों को कंफर्टेबल महसूस कराना है ताकि उन्हें बेहतर ट्रीटमेंट मिल सके। हेल्थ एडमिनिस्ट्रेशन का कोर्स करने वाले लोगों को हेल्थ मैनेजर और हेल्थ कंसल्टेंट की नौकरी मिल सकती है। वे चाहें तो हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियों में भी काम कर सकते हैं। बड़े कॉरपोरेट हॉस्पिटल, पब्लिक हॉस्पिटल, प्राइवेट सेक्टर के हॉस्पिटल, क्लीनिक, नेशनल और इंटरनेशनल हेल्थकेयर ऑग्रेनाइजेशन और इंश्योरेंस कंपनियों में नौकरी के बेहतरीन मौके हैं। कॉलेज और यूनिवर्सिटी में पढ़ाने के मौके के अलावा, मेंटल हेल्थ ऑग्रेनाइजेशन, रीहैबिलिटेशन सेंटर, फार्मास्यूटिकल्स एंड हॉस्पिटल सप्लाई फर्म, मेडिकल सॉफ्टवेयर कंपनियां और हॉस्पिटल कंसल्टिंग फर्म में भी कई मौके उपलब्ध हैं। शुरू में बतौर असिस्टेंट हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेटर या मैनेजर के तौर पर ज्वाइन किया जा सकता है। कई सालों के अनुभव के बाद अपना नर्सिग होम या हॉस्पिटल भी खोला जा सकता है।

आमदनी

इस कोर्स को करने के बाद शुरुआत 15,000 रुपये से आसानी से हो सकती है। आपका एजुकेशनल रिकॉर्ड अच्छा है तो अधिक सैलरी भी मिल सकती है। कॉलेज लेक्चरर के तौर पर तो 20,000 रुपये आसानी से मिल सकते हैं। अनुभव के बाद तो 50,000 रुपये प्रतिमाह कमाना कोई बड़ी बात नहीं(राष्ट्रीयसहारा,5.7.11)।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी के बगैर भी इस ब्लॉग पर सृजन जारी रहेगा। फिर भी,सुझाव और आलोचनाएं आमंत्रित हैं।