मुख्य समाचारः

सम्पर्कःeduployment@gmail.com

06 अगस्त 2011

हिमाचलःसेमिनार छोड़कर नहीं भाग पाएंगे शिक्षक

समय के साथ शिक्षक को अपडेट करने के उद्देश्य से आयोजित किए जाने वाले सेमिनारों की अब वीडियोग्राफी होगी। इससे जहां हर गतिविधि पर नजर रहेगी, वहीं शिक्षक सेमिनार छोड़कर भी नहीं भाग पाएंगे। इस प्रक्रिया को प्रदेश में चरणबद्ध तरीके से शुरू किया जाएगा।

वीडियोग्राफी करने के पीछे तर्क : सेमिनार की वीडियोग्राफी करने के पीछे विभाग ने तीन तर्क दिए हैं। पहला यह कि शिक्षक की सेमीनार में उपस्थिति सुनिश्चित की जाए और कोई भी बीच में भाग न सके। दूसरा यह कि शिक्षकों को रिसोर्स पर्सन सहित अन्य अधिकारी किस तरह से जानकारी देते हैं।

तीसरा यह कि सेमिनार के माध्यम से जो अच्छी प्रस्तुति दी जाती है, उसे विभागीय स्तर पर अन्य जगह भी दिखाया जाए और आवश्यकता पड़ने पर इसकी सीडी स्कूलों में उपलब्ध करवाई जाए। सर्व शिक्षा अभियान के अंतर्गत आयोजित किए जाने वाले सेमिनार के संदर्भ में इस तरह की शिकायतें मिल रही थी कि शिक्षक इसमें पूरा समय नहीं देते हैं। साथ ही रिसोर्स पर्सन भी कई बार औपचारिकताएं पूर्ण करते हैं। इस तरह शिक्षक और रिसोर्स पर्सन दोनों पक्षों पर बेहतर निगरानी रखने के उद्देश्य से भी वीडियोग्राफी करने का निर्णय लिया गया।


प्रदेश में सेमीनार की वीडियोग्राफी करने पर चरणबद्ध तरीके से अमल होगा। शिमला में इसकी शुरुआत कर दी गई है। विभागीय स्तर पर इस बात के स्पष्ट आदेश कर दिए गए हैं कि जिन स्थानों पर वीडियोग्राफी हुई है, उसके परिणाम का विश्लेषण किया जाए। उसके बाद इस प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जाए, ताकि सही तरीके से इस पर अमल हो सके। 

वीडियोग्राफी करने का उद्देश्य शिक्षक और रिसोर्स पर्सन की गतिविधि पर नजर रखना है। इसके अलावा अच्छी प्रस्तुति की सीडी तैयार कर उसे स्कूलों में दिखाया भी जाएगा। -राजेश शर्मा, परियोजना निदेशक सर्व शिक्षा अभियान (एसएसए)(कुलदीप शर्मा,दैनिक भास्कर,शिमला,6.8.11)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी के बगैर भी इस ब्लॉग पर सृजन जारी रहेगा। फिर भी,सुझाव और आलोचनाएं आमंत्रित हैं।