मुख्य समाचारः

सम्पर्कःeduployment@gmail.com

03 नवंबर 2011

उत्तराखंडःजल संस्थान में पचास पूर्व फौजियों पर गाज

उत्तराखंड जल संस्थान में उपनल के जरिए भर्ती हुए 50 डिप्लोमाधारी पूर्व फौजियों पर गाज गिरने वाली है। जल संस्थान में बतौर कनिष्ठ इंजीनियर (जेई) काम कर रहे इन पूर्व फौजियों की सेवाएं समाप्त करने के आदेश हो गए हैं। उत्तराखंड जल संस्थान के ढांचे में 237 कनिष्ठ अभियंताओं के पद स्वीकृत हैं जिसके सापेक्ष मौजूदा वक्त में केवल 100 जेई हैं। हाल में लोक सेवा आयोग से 80 कनिष्ठ अभियंताओं की नियुक्ति की गई है। इनमें से भी अभी करीब 60 कनिष्ठ अभियंताओं ने ही ज्वाइन किया है। पुराने कनिष्ठ अभियंताओं में से 20 अभियंता जल्द ही प्रोन्नत हो जाएंगे ऐसे में जल संस्थान में जेई की तादाद फिर से केवल 80 ही रह जाएगी। संस्थान पहले ही जेई की कमी से जूझ रहा है । सूत्रों के अनुसार पूर्व फौजी कनिष्ठ अभियंताओं को हटाए जाने के आदेश हो गया है। इस बाबत जब जल संस्थान के मुख्य महाप्रबंधक डीडी डिमरी से संपर्क किया गया तो उन्होंने भी उपनल के माध्यम से भर्ती पूर्व फौजी जेई को हटाए जाने की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि इन पूर्व फौजियों को धीरे-धीरे हटाया जाएगा। पूर्व फौजियों को हटाए जाने के इस आदेश के बाबत बाबत जब उत्तराखंड जल स्ांस्थान डिप्लोमा इंजीनियर संघ के प्रदेश महासचिव उमेश नौडियाल से संपर्क किया गया तो उन्होंने इस मामले को लेकर कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया(राष्ट्रीय सहारा,देहरादून,3.11.11)।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी के बगैर भी इस ब्लॉग पर सृजन जारी रहेगा। फिर भी,सुझाव और आलोचनाएं आमंत्रित हैं।