मुख्य समाचारः

सम्पर्कःeduployment@gmail.com

01 अगस्त 2011

CBSE कंपार्टमेंट का नहीं आया रिजल्ट,सीसीएस यूनिवर्सिटी में एडमिशन की दौड़ से सैकड़ों स्टूडेंट्स बाहर

सीबीएसई के कंपार्टमेंट का रिजल्ट नहीं आने से सीसीएस यूनिवर्सिटी में एडमिशन की दौड़ से सैकड़ों स्टूडेंट्स बाहर हो गए हैं। रिजल्ट में होने वाली देरी ने ऐसे स्टूडेंट्स का एक साल बर्बाद कर दिया है। शनिवार को एडमिशन फॉर्म भरने के आखिरी दिन दर्जनों स्टूडेंट्स परेशान होकर एमएमएच कॉलेज पहुंचे, लेकिन उनकी कहीं सुनवाई नहीं हुई। कॉलेज प्रशासन ने भी बिना रिजल्ट के एडमिशन फॉर्म न जमा करने की विवशता दिखा दी।

सीबीएसई की लापरवाही और सीसीएसयू की कार्यप्रणाली की वजह से ही सैकड़ों स्टूडेंट्स का भविष्य अधर में अटक गया है। बता दें कि करीब 1500 स्टूडेंट्स ने विभिन्न विषयों में कंपार्टमेंट एग्जाम दिया था, जिसमें साइंस स्ट्रीम के स्टूडेंट्स की संख्या सबसे ज्यादा थी।

अब ये स्टूडेंट्स इस बात को लेकर चिंतित हैं कि इस सेशन में उनका कहीं एडमिशन हो पाएगा या नहीं। दरअसल, डीयू में एडमिशन प्रोसेस खत्म हो गया है और सीसीएस यूनिवसिर्टी में एडमिशन फॉर्म जमा करने की लास्ट डेट खत्म हो चुकी है।

शनिवार को एमएमएच कॉलेज में काफी संख्या में स्टूडेंट्स एडमिशन फॉर्म जमा करने के लिए पहुंचे थे, लेकिन कॉलेज प्रशासन ने यह कहकर फॉर्म जमा करने से मना कर दिया कि रिजल्ट न आने की स्थिति में उन्हें मेरिट लिस्ट में शामिल नहीं किया जाएगा। लिहाजा उनका फॉर्म जमा नहीं होगा।


दूसरी तरफ, साइंस स्ट्रीम के स्टूडेंट्स के सामने परेशानी है कि यदि वह एक सेशन में ड्रॉप करते हैं तो अगले वर्ष जब वह अप्लाई करेंेगे तो यूनिवसिर्टी के नियम के मुताबिक मेरिट लिस्ट में उनके मार्क्स 5 प्रतिशत कम हो जाएंगे। उनके सामने प्राइवेट कैटिगरी ही एक विकल्प है, लेकिन उन्हें स्ट्रीम चेंज करनी होगी। 

इस तरह से साइंस स्ट्रीम वाले स्टूडेंट्स दुविधा की स्थिति में है। वहीं कॉमर्स और आर्ट्स स्ट्रीम के स्टूडेंट्स के सामने यह विकल्प मौजूद है। दूसरी ओर यूनिवसिर्टी ने स्पष्ट कह दिया है कि एडमिशन की डेट किसी भी सूरत में आगे नहीं बढे़गी। यदि डेट आगे बढ़ाई जाती तो इन स्टूडेंट्स को फॉर्म जमा करने का एक और मौका मिल जाता(नवभारत टाइम्स,गाजियाबाद,1.8.11)।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी के बगैर भी इस ब्लॉग पर सृजन जारी रहेगा। फिर भी,सुझाव और आलोचनाएं आमंत्रित हैं।