मुख्य समाचारः

सम्पर्कःeduployment@gmail.com

30 जुलाई 2011

यूपीःआरक्षित वर्ग के 22 इंजीनियरों की प्रोन्नति रद

उच्च न्यायालय की लखनऊ पीठ ने उत्तर प्रदेश पॉवर कारपोरेशन में आरक्षित वर्ग के 22 सहायक अभियंताओं को अधिशासी अभियंता के पद पर प्रोन्नति करने के आदेश को खारिज कर दिया है। पीठ ने प्रोन्नति किए गए अभियंताओं को उनके पहले के पद (सहायक अभियंता) पर पदावनत करने को कहा है। साथ ही 31 रिक्त पदों पर अधिकतम एक माह में सामान्य वर्ग के सहायक अभियंताओं को पदोन्नति करने का आदेश भी दिया है। न्यायमूर्ति प्रदीप कांत व न्यायमूर्ति रितुराज अवस्थी की खंडपीठ ने याची गिरीश नारायण मिश्रा सहित 15 अन्य की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता एसके कालिया व अधिवक्ता राजन राय द्वारा दायर याचिका को स्वीकार करते हुए उक्त आदेश दिया है। याचिका में कहा गया था कि याचीगणों से लगभग 15 वर्ष जूनियर 22 सहायक अभियंताओं को अधिशासी अभियंता के पद पर प्रोन्नति दे दी गई है। कहा गया कि यह सभी अनुसूचित जाति (आरक्षित कोटे) के थे इस आधार पर कार्पोरेशन प्रबंधन ने 10 जनवरी 2011 को उन्हें आरक्षण का विशेष लाभ देकर प्रोन्नति दे दी। तर्क यह भी दिया गया कि याचीगण 1988-89 बैच के हैं जिन्हें नजरअंदाज कर वर्ष 2001-2002 के बैच के सहायक अभियंताओं को प्रोन्नति दी गई जो संविधान की मंशा के विपरीत है। उक्त दलीलों को सुन अदालत ने कार्पोरेशन प्रबंधन के 10 जनवरी 2011 के आदेश को निरस्त करते हुए यह फैसला सुनाया है। कोर्ट ने कार्पोरेशन के उच्चाधिकारियों से यह अपेक्षा की है कि वह इस बात की पड़ताल करें कि कैसे व किसके इशारे पर उक्त प्रोन्नतियां की गई हैं? कार्पोरेशन के निदेशक (कार्मिक) नंदलाल का कहना है कि उन्हें आदेश की प्रतिलिपि नहीं मिली है। सूत्रों का कहना है कि कार्पोरेशन प्रबंधन आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में एसएलपी दाखिल करने की तैयारी में है। उप्र पॉवर आफिसर्स एसो. के कार्यवाहक अध्यक्ष अवधेश वर्मा ने कहा कि आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया जाएगा। वहीं उप्र राज्य विद्युत परिषद अभियंता संघ के महासचिव ओम प्रकाश पांडेय ने कहा कि आरक्षित वर्ग के 25 उन अभियंताओं को भी पदावनत किया जाए जिन्हें स्वीकृत पदों के न होते भी पदोन्नत किया गया था।
कोर्ट के आदेश से प्रभावित होने वाले अभियंता : 
राधा कृष्ण, ओम प्रकाश, राम दास, लोकेन्द्र बहादुर सिंह, महेश कुमार अहिवार, अजय कुमार, अनिल कुमार, आदर्श कुमार कौशल, अखिलेश कुमार प्रभाकर, अरविन्द सिंह, रोहिताश्व सिंह जंगपांगी, बनवारी लाल, देश राज, पूरन चंद्र, चंद्र पाल, अरविन्द कुमार, संजीव कुमार भास्कर, शेर सिंह, सुभाष चंद्र, संगीता, राजेश कुमार बंशी व राजेन्द्र सिंह(दैनिक जागरण,लखनऊ,30.7.11)।

1 टिप्पणी:

  1. गुड़ , देहात में आज भी गुड़ मिलता है और कोल्हू पे जाओ तो फ़्री मिलता है बिल्कुल आपकी पोस्ट की तरह ।

    धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणी के बगैर भी इस ब्लॉग पर सृजन जारी रहेगा। फिर भी,सुझाव और आलोचनाएं आमंत्रित हैं।