मुख्य समाचारः

सम्पर्कःeduployment@gmail.com

31 जुलाई 2011

जम्मूःसेंट्रल यूनिवर्सिटी के मुद्दे पर भाजपा भी मैदान में

सेंट्रल यूनिवर्सिटी के मुद्दे को लेकर भाजपा भी मैदान में कूद गई। शनिवार को कच्ची छावनी में भाजपाइयों ने सरकार के विरुद्ध जोरदार प्रदर्शन किया। केंद्र एवं राज्य सरकार का पुतला फूंकने को लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं एवं पुलिस के बीच जबरदस्त धक्का-मुक्की भी हुई। कुछ कार्यकर्ताओं को मामूली चोटें भी आई हैं। जिला प्रधान राजेश गुप्ता के नेतृत्व में भाजपाई प्रदर्शन कर रहे थे।

सेंट्रल यूनिवर्सिटी जल्द शुरू करने की मांग को लेकर कार्यकर्ताओं ने केंद्र और राज्य सरकार के विरुद्ध जमकर नारेबाजी की। जिला प्रधान राजेश गुप्ता ने आरोप लगाया कि दोनों सरकारों ने साजिश के तहत जम्मू सेंट्रल यूनिवर्सिटी को खोलने में देरी की और अब भी जानबूझ कर देरी कर रही है।

राजेश गुप्ता ने कहा भाजपा ने हमेशा क्षेत्रीय भेदभाव के मुद्दे पर कठोर रुख अपनाया है। पार्टी सेंट्रल यूनिवर्सिटी खोलने में हो रही देरी के प्रति गंभीर है। देश के अन्य राज्यों में खोली गई सेंट्रल यूनिवर्सिटी का तीसरा सत्र चल रहा है, जबकि यहां पर अभी तक पहला सत्र भी शुरू नहीं हुआ। युवाओं के साथ हो रहे भेदभाव एवं अन्याय पर भाजपा जमकर विरोध करेगी।

कांग्रेस नेता दोगली रणनीति अपना हुए हैं और अभी भी कोशिश में हैं कि यूनिवर्सिटी को खोलने में और देरी हो। यहां के लोगों के प्रति अगर कांग्रेस नेता गंभीर हैं तो उन्हें कुर्सी का मोह त्याग कर जनता के साथ सड़कों पर आना चाहिए।


भाजपा नेता ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर जल्द सेंट्रल यूनिवर्सिटी नहीं खोली गई तो भाजपा अपना आंदोलन और तेज करेगी। प्रदर्शन में शिव कुमार गुप्ता, विक्रम रंधावा, करण सिंह, संजीव गुप्ता, जयदीप शर्मा, सुरेष्टा जम्वाल, रीता जम्वाल, रमेश शर्मा, बलवान सिंह, राकेश मिश्रा, अयोध्या कुमार, प्रद्युम्न सिंह, सुनील डोगरा, जीत अंगराल, मुनीष खजूरिया, दिनेश गुप्ता, धन स्वरूप, सुरेंद्र महाजन, पुरुषोत्तम डोगरा, कुलदीप कंधारी, विजय शर्मा, दिलीप गुप्ता मौजूद थे।

आखिर छीन ही लिया पुतला

कार्यकर्ताओं ने जब यूपीए और राज्य सरकार का पुतला जलाने की कोशिश की तो बड़ी तादाद में तैनात पुलिस जवानों ने उन्हें पुतला जलाने नहीं दिया। पुलिस ने पुतले छीनने की कोशिश की। 

पुतले को लेकर पुलिस एवं भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच खूब धक्कामुक्की हुई। इसी खींचतान में पुतला थामे कुछ कार्यकर्ता नीचे गिर गए, जिससे उन्हें मामूली चोटें भी आई। आखिरकार पुलिस कार्यकर्ताओं से पुतला छीनने में कामयाब हो गई।

एकजुट हो उठाएंगे आवाज, तभी मिलेगा हक

जम्मू. केन्द्रीय विश्वविद्यालय को लेकर नेशनल पैंथर्स स्टूडेंट यूनियन और यंग पैंथर्स की भूख हड़ताल शनिवार को छठे दिन में पहुंच गई। वहीं, यूनियन के कार्यकर्ताओं ने रामनगर, अखनूर, जीजीएम साइंस कॉलेज, कामर्स कॉलेज, पलोड़ा, सांबा, कठुआ और जम्मू यूनिवर्सिटी में कक्षाओं का बहिष्कार कर विरोध प्रदर्शन जताया। 

जीजीएम साइंस कॉलेज में कार्यकर्ताओं ने एचआरडी मंत्रालय के खिलाफ भी प्रदर्शन किया। पैंथर्स नेता शिव देव सिंह ठाकुर ने कहा कि जम्मू के लोगों को अपने हकों के लिए एकजुट हो जाना चाहिए क्योंकि जब तक सभी मिलकर आवाज नहीं उठाएंगे तब तक कोई नहीं सुनेगा। 

इस मुद्दे को लेकर अगर सीएम और एचआरडी मंत्रालय उनसे संपर्क नहीं करते तो यह आंदोलन रुकने वाला नहीं। इसमें चाहे किसी की जान भी चली जाए तो भी पीछे नहीं हटेंगे। उनका कहना था कि जम्मू के बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं 
किया जाएगा। 

वकीलों ने भी किया प्रदर्शन

जम्मू. केंद्रीय विश्वविद्यालय शुरू किए जाने की मांग को लेकर शनिवार को वकीलों ने एक दिवसीय हड़ताल रखी। बार एसोसिएशन जम्मू के बैनर तले वकीलों ने अदालत में पेश न होकर अदालत परिसर में धरना प्रदर्शन किया। 

एसोसिएशन की मांग है कि जल्द वीसी की नियुक्ति कर केंद्रीय विश्वविद्यालय का काम शुरू किया जाए। बार के प्रधान बीएस सलाथिया ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा जम्मू के लिए विवि को मंजूरी दिए लंबा अर्सा हो गया है लेकिन यहां विवि को शुरू करने के लिए अभी तक कोई कदम नहीं उठाया गया है। 

विवि के लिए आंदोलन करने वाले संगठनों को बार एसोसिएशन ने बिना शर्त समर्थन दिया है। उन्होंने कहा कि अगर दोनों सरकारों ने छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ बंद नहीं किया तो बार एसोसिएशन इस आंदोलन को घर-घर तक ले जाएगी। बार के महासचिव विक्रम शर्मा और पूर्व प्रधान डीएस सैनी ने सरकार को चेताया कि इससे पहले विवि को लेकर जम्मू के हालात बिगड़ें, सरकार को शीघ्र कदम उठाने चाहिए(दैनिक भास्कर,जम्मू,31.7.11)।

1 टिप्पणी:

  1. हमारी कामना है कि आप हिंदी की सेवा यूं ही करते रहें। कल सोमवार को
    ब्लॉगर्स मीट वीकली में आप सादर आमंत्रित हैं।

    उत्तर देंहटाएं

टिप्पणी के बगैर भी इस ब्लॉग पर सृजन जारी रहेगा। फिर भी,सुझाव और आलोचनाएं आमंत्रित हैं।