मुख्य समाचारः

सम्पर्कःeduployment@gmail.com

16 दिसंबर 2011

जॉब में निरंतरता बनाए रखने के लिए इन बातों पर गौर फरमाएं

बेहतर जॉब पाना आसान काम नहीं है, पर उससे भी मुश्किल है जॉब में बने रहना और लगातार अच्छा प्रदर्शन करना। इसी के मद्देनजर किसी भी ऑफिस में शुरू के कुछ सप्ताह या महीने काफी महत्वपूर्ण होते हैं। इस संबंध में कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं पर ध्यान देने से ही बात बनेगी।

- नए जॉब के कारण स्वाभाविक रूप से आप उस संस्थान के माहौल से परिचित नहीं होते हैं। इसलिए सर्वप्रथम संस्थान की कार्यशैली को समझने की कोशिश करें। इसके अलावा आपके समकक्ष जो कर्मचारी हैं, उनके रुटीन को भी बारीकी से परखें। इससे काम के ढंग को समझना आपके लिए आसान हो जाएगा।

- ऑफिस में आपके काम का स्वरूप क्या है, इसको ठीक ढंग से समझें। एकाग्र होकर काम करें। कौन-सा काम कब करना है और कितने समय में करना है, इसका ध्यान रखें। गलतियां न हों, इसका ध्यान रखें। सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन को लेकर हमेशा सतर्क रहें और काम संबंधी ऑफिस में दिए गए दिशा-निर्देशों का पालन करें।

- सीखने की ललक जरूरी है। ऑफिस की कार्यप्रणाली को जानने-समझने में यदि कोई परेशानी हो तो पूछने में हिचकें नहीं। प्रत्येक कर्मचारी से आपको कुछ ऐसी बातों का पता चल सकता है, जो आपके लिए उपयोगी होंगी।


- काम में तो आपको कुशल होना ही चाहिए, इसके अलावा आपका व्यवहार भी अच्छा होना चाहिए। न सिर्फ अपने सीनियर्स, बल्कि जूनियर्स के साथ भी आपके व्यवहार में मैनर्स का पालन होना चाहिए। इससे दूसरे कर्मचारी भी आपसे बेहतर बर्ताव करेंगे और आपकी छवि एक अच्छे कर्मचारी की बनेगी।

- ऑफिस में भले ही आप दिन का एक-तिहाई से भी अधिक समय व्यतीत करते हों, फिर भी यह ध्यान रखें कि यह आपका घर नहीं है। इसलिए व्यक्तिगत कार्यों के लिए ऑफिस के टेलीफोन, कंप्यूटर, फोटोकॉपी मशीन, फैक्स आदि का इस्तेमाल न करें। मोबाइल पर घंटों बातें करने और काम छोड़कर इधर-उधर घूमने से आपकी छवि खराब हो सकती है।

- काम और व्यवहार के अलावा ऑफिस में अपने पहनावे पर भी काफी ध्यान दें। ऑफिस के ड्रेस कोड का पालन जरूर करें। यदि कोई ड्रेस कोड निर्धारित नहीं है, तो भी पहनावे में शालीनता बरतें। बेढंगी पोशाकें आपको एक स्मार्ट स्टाफ नहीं बनातीं।

- समय को लेकर भी पाबंद रहें। आने-जाने के लिए निर्धारित समय का पालन करें। यदि किसी काम से आपको ऑफिस से अनुपस्थित रहना हो, तो इसकी सूचना अपने वरिष्ठ को जरूर दें(दैनिक भास्कर,6.12.11)।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

टिप्पणी के बगैर भी इस ब्लॉग पर सृजन जारी रहेगा। फिर भी,सुझाव और आलोचनाएं आमंत्रित हैं।